Thursday, February 14, 2013

रंग


रातों में हर तरफ़ बिछा 
कोयले का कारा 

या जलते हुए सूरज सा  
चढ़ता सुर्ख पारा 

इस स्याही का रंग क्या
इस अक्षर का अर्थ क्या 

टूटे इस कलम से लिखी 
कहानी का इस अंत क्या 

No comments: